Saturday, March 9, 2013

प्रदेश में खोले जायेंगे चार महिला थाने


प्रदेश में खोले जायेंगे चार महिला थाने



यमुनानगर के जिला सचिवालय में पुलिस अधिकारियों की बैठक को संबोधित करते क्राइम अंगेस्ट वूमन के एडीजीपी के साल्वराज। छाया : सुरेंद्र मेहता
सुरेंद्र मेहता/
यमुनानगर, 8 मार्च। हरियाणा में महिलाओं की सुरक्षा के लिए जहां महिला हैल्पलाईन, महिला पीसीआर की व्यवस्था की गयी है, वहीं महिला कांस्टेबलों की भर्ती व चार महिला थाने खोलने की भी योजना है। यह कहना है वुमेन अगेंस्ट क्राइम के एडीजीपी के साल्वराज का। जो यमुनानगर में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।
उन्होंने बताया कि राज्य में बलात्कार की घटनाओं में कमी आई है लेकिन हम इससे संतुष्ट नहीं हैं बल्कि ऐसी घटनाओं को और कम करने को लेकर प्रयास जारी हैं। बलात्कार की घटनाओं को लेकर खासकर जहां सख्ती बरती जा रही है, वहीं गांव व कालोनियों में पुलिस कर्मचारी व अधिकारी आम जनमानस को जागरूक कर रहे हैं। इसके अलावा महिला हैल्पलाईन की व्यवस्था की गयी है और महिला पीसीआर भी गश्त करती रहती है। महिला थानों की भी शुरुआत की गयी है और जल्द ही चार नये महिला थाने गुडग़ांव, पंचकूला, फरीदाबाद एवं बहादुरगढ़ में खोले जायेंगे। उन्होंने बताया कि इस समय राज्य में महिला पुलिस साढ़े 6 प्रतिशत है जिसे दस प्रतिशत करने के प्रयास जारी हैं। महिला कांस्टेबलों की भर्ती को लेकर अनुमति मिल गयी है और जल्द ही यह भर्ती की जायेगी। उन्होंने बताया कि बलात्कार के मामलों की जांच ज्यादा से ज्यादा 30 दिन और हत्या के मामलों की जांच 15 दिन के बीच पूरी करने के निर्देश दिये गये हैं। ताकि जल्द से जल्द पीडि़त को न्याय मिल सके।
इससे पूर्व लघु सचिवालय में पुलिस अधिकारियों की बैठक में पुलिस अधिकारियों को चेतावनी देते हुए उन्होंने कहा कि महिलाओं के मामले में पुलिस अधिकारी ढील न बरतें, नहीं तो उनके खिलाफ कार्रवाई हो सकती है। श्री साल्वराज ने बताया कि उन्होंने 15 अक्तूबर को कार्य संभाला है। महिलाओं के साथ बढ़ रहे अपराध को देखते हुए वुमेन अंगेस्ट क्राइम विभाग बनाया गया है। महिलाओं की सुरक्षा के लिए बनाए गए कानूनों के बारे में वह प्रदेश के सभी जिलों में दौरा कर पुलिस फोर्स को जानकारी दे रहे हैं।

No comments:

Post a Comment