Monday, May 30, 2011

यमुनानगर में एस.पी. ·ार्यालय ·े बाहर पिटाई

यमुनानगर पंजाब प्रदेश ·े संगरूर से शादी ·रने ·े लिए भागे प्रेमी जोड़े ·ो जहां परिजनों ने यमुनानगर जिला सचिवालय में पीटा वहीं जब यह प्रेमी जोड़ा पुलिस अधीक्ष· ·े पास सुरक्षा ·े लिए पहुंचा तो ·ार्यालय ·े समक्ष ही परिजनों ने जम·र हंगामा ·िया और ए· बार फिर उन·ी पिटाई ·ी। परिजनो ·ा ·हना था ·ि रिश्ते में उक्त दोनों बहन-भाई लगते हैं और साथ ही लड़·ा पहले से विवाहित है। पुलिस मामलें ·ी जांच ·र रही है। संगरूर ·ी रहने वाली जोगिन्द्रों व श·ुंतला ने बताया ·ि हम दोनों बहनो ·ी शादी ए· ही घर में हुई है और उन·ा भाई मनोज पिछले 2 साल से उन·े पास ही रह रहा है जब·ि पहले वह यमुनानगर जिला ·े गांव मुंडाखेडा में रहता था। उन्होंने बताया ·ि मनोज उन्हीं ·े पास ·ाम ·रने लगा था। उन्होंने बताया ·ि रविवार ·ी रात उन·ा भाई मनोज उन·ी ननद ·ी लड़·ी ·ो ले·र भाग आया। उन्होंने ·हा ·ि अब उन·ी मुसीबत ओर अधि· बढ़ गई है। श·ुंतला ने बताया ·ि अब इस मामले ·े बाद अब उन·ी ससुराल वाले उन्हें घर से नि·ाल रहे हैं। ससुराल वालों ·ा ·हना है ·ि तुम्हारे भाई ने उन·ी इज्जत ·े साथ खिलवाड़ ·िया है और अब जब त· उन·ी लड़·ी सुरक्षित उन·े पास नहीं आ जाती तब त· वे भी उन्हें अपने साथ नहीं ले जाएंगे। इन बहनों ने रोते हुए बताया ·ि अब उन·ा घर भी उजड़ गया है और उन·ा भाई भी उनसे दूर हो गया है। लड़·ी ·े घर से गायब हो जाने ·े बाद घरवाले परेशान हुए और ·ोई ·ुरुक्षेत्र तो ·ोई चंडीगढ़, तो ·ोई यमुनानगर लड़·ी ·ी तलाश में पहुंचे। संगरूर जिस ·ालोनी में वे रहते हैं वहीं से उन्हें सूचना मिली ·ि रात ·रीब 2 बजे ए· युव· गाड़ी में बिठा ·र उन·ी लड़·ी ·ो ले गया ले·िन उन्हें यह मालूम नहीं था ·ि यह लड़·ा ·ौन था। लड़·ी पक्ष ·े लोग खोजते हुए यमुनानगर आ पहुंचे और उन्हें मनोज व सर्वजीत ·ोर्ट परिसर में ·ैन्टीन में बैठे हुए मिल गए। उन्हें देखते ही लड़·ी वालों ने उन पर हमला बोल दिया और बुरी तरह दोनों ·ी पिटाई शुरू ·र दी। ·िसी तरह दोनों एस.पी. ·ार्यालय त· पहुंचे और जब यहां भी उन·ी पिटाई होती रही तो खुद पुलिस अधीक्ष· मितेष जैन ·ो हस्तक्षेप ·रना पड़ा और लड़·ा-लड़·ी ·ो हमलावरों से अलग ·र ·िया। इससे पूर्व लड़·ा-लड़·ी जम·र ·ोर्ट परिसर व एस.पी. ·ार्यालय ·े बाहर पिटाई ·ी गई। यदि पुलिस अधीक्ष· मितेष जैन अपने ·ार्यालय से बाहर नि·ल ·र न आते तो निश्चित ही ·ोई न ·ोई अनहोनी हो जाती। दोनों ·ो अलग ·रने ·े बाद पुलिस ने हिरासत में लिया। ·ुछ ही देर ·े बाद पुलिस दोनों ·ो फिर ·ोर्ट परिसर ले·र आई और उन·े साथ उन·े परिजनों ·ो भी दोबारा थाने ले गए। थाने ले जाते समय जब डी.एस.पी. अशो· सब्बरवाल से बातचीत ·ी गई तो उन्होंने बताया ·ि इस मामले में हमलावरों पर ·ेस दर्ज ·िया जाएगा। समाचार लिखे जाने त· सभी ·ो थाने में बिठाया हुआ था और पुलिस अपनी ·ार्रवाई ·र रही थी।
पुलिस अधीक्ष· मितेष जैन ·ा ·हना है ·ि अभी त· उन्हें इस मामले में पूरी जान·ारी नहीं है ले·िन जिस प्र·ार ·ार्यालय ·े बाहर या ·ोर्ट परिसर में हंगामा खड़ा ·िया गया, निश्चित रूप से यह बड़ा अपराध है और इस मामले में पुलिस अपनी ·ार्रवाई ·रेगी।

No comments:

Post a Comment