Sunday, May 15, 2011

स्·ूली बस ेह्ल टैंपू भिड़े, १७ घायल

घायलों में तीन ·ी हालत गंभीर

घटना ·े बाद चाल· बस सहित फरार

गाधरीेह्लर्·शॉप। चंडीगढ-रुड़·ी हाइेह्ले स्थित बाईपास पुल पर ए· स्·ूली बस ेह्ल टैंपू ·ी भिड़ंत हो गई। भिड़ंत में टैंपू सेह्लार १७ लोग घायल हो गए। घायलों ·ो शहर ·े ए· निजी अस्पताल में भर्ती ·राया गया है। घायलों में तीन ·ी हालत गंभीर बनी हुई थी।

घायलों ·रनाल जिले ·े बीबीपुर जट्टान निेह्लासी नंदलाल ने बताया ·ि ेह्लह परिेह्लार ·े लोगों ·े साथ अपनी भूखड़ी गांेह्ल में अपनी बेटी ·ी ससुराल में गया था। शाम ·े समय परिेह्लार ·े सभी सदस्य ेह्लहां बातचीत ·र टैंपू में घर लौट रहे थे। रास्ते में यमुनानगर ·े बाईपास पुल पर सामने से आ रही ए· स्·ूली बस से उन·े टैंपू (टाटा अराईस) ·ो टक्कर दे मारी जिससे टाटा अराईस में बेठे सभी १७ लोग घायाल हो गए। इससे पहले ेह्लह संभल पाते बस ेह्लाला ेह्लहां से बस ·ो ले·र फरार हो गया। दुर्घटना ·ी सूचना मिलने पर पुलिस ने मौ·े पर पहुंच·र घायलों ·ो तुरंत निजी अस्पताल में उपचार ·े लिए भर्ती ·राया। जहां पर ईश देेह्ल, सुभाष, शे ार, गुरूदेेह्ल, ेिह्लष्णु, रामचंद्र, जिेह्लाया, लक्षमण, रामदेेह्ल श्याम, पेह्लन, नि·ू, नंदलाल, पालाराम, ओमा ·ो अस्पताल में भर्ती ·राया गया। इन·े अलोह्ला हादसे में गंभीर रूप से घायल हुए तीन अन्य ·े बार में अभी ·ुछ पता नहीं चल पाया था। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज·र फरार बस चाल· ·ी तलाश शुरू ·र दी है।

नहीं ले रहे सब·

बीती २८ अप्रैल ·ो नेशनल हाइेह्ले नंबर-७३ पर श्रीराम इंस्टीच्यूट ·ी बस ेह्ल ट्र· ·े हादसे ·े बाद भी प्रशासन सब· नहीं ले रहा है। रेिह्लेह्लार ·ो अेह्ल·ाश होने ·े बाद यह स्·ूली बस शहर में ·ैसे घूम रही थी? इस·े अलोह्ला यदि ·िसी ·ाम से बस ·हीं गई थी तो उसमें स्पीड गेह्लर्नर ·े बार में जान·ारी क्यों नहीं ली गई? यदि उसमें स्पीड गेह्लर्नर होता तो चाल· बस ·ो इतनी जल्दी ेह्लहां से भगा·र नहीं ले जा स·ता था। इस हादसे ·े बाद आरटीए ेिह्लभाग ने भी ·ई स्·ूली बसों ·ी चे·िंग ·ी थी। उस दौरान ·ई ·ो नोटिस ेह्ल ·ुछ ·ो बाउंड भी ·िया गया था। इस·े बाद भी स्·ूली बस चाल·ो द्वारा अंधाधूंध गति से बस चलाने पर संस्थान प्रबंध·ों ेह्ल ट्रैफि· पुलिस द्वारा भी उन·े खिलाफ ·ार्रेह्लाई नहीं ·ी जा रही। इसी ·े चलते इस प्र·ार ·े चाल· आम जनता ·े लिए बस ·े स्थान पर मौत ·ी सेह्लारी ले·र नि·ल रहे है।















No comments:

Post a Comment