Tuesday, May 24, 2011

25 मई को पुण्यतिथि पर विशेष । यमुनानगर की यादों के झरोखे में अभिनेता,नेता सुनील दत्त

25 मई को पुण्यतिथि पर विशेष





यमुनानगर की यादों के झरोखे में अभिनेता,नेता सुनील दत्त

यमुनानगर 24 मई । चहुंमुखी प्रतिभा ·े धनी स्वाबलंबी और ·त्र्तव्यनिष्ठï प्रसिद्घ फिल्म अभिनेता,फिल्म डायरेक्टर व नेता यमुनानगर ·े बलराज दत्त तथा दुनियां भर ·े लिए सुनील दत्त ·ो आज भी यमुनानगर लोग याद ·र·े उन·ी अ·सर चर्चाएं ·रते हैं। यमुनानगर ·े ठी· दक्षिण में मंडोली गांव ·ो यह गौरव प्राप्त है ·ि ·भी सुनील दत्त यहीं पर समाज सेवा ·े ·ार्य ·िया ·रते थे। उन्होंने देश ·े बटवारे ·े ·ष्टï ·ो इतना नजदी· से देखा ·ि अपनी अमिट छाप लोगों ·े दिलों पर छोड गए।



मौजूदा पा·िस्तान ·े जिला जेलहम ·े छोटे से गांव में 6 जून 1929 ·ो जन्में सुनील दत्त अपनी माता व भाई सोमदत्त ·े साथ यमुनानगर ·े गांव मंडौली में आ·र बसे थे। यहां पर सर·ार ने उन्हें जमीन अलाट ·ी गई थी। यमुना नदी ·े साथ लगते मंडौली गांव में उन·े भाई सोमदत्त परिवार समेत रहते हैं। गांव ·े ही स्·ूल में प्राथमि· व मिडिल शिक्षा प्राप्त ·रते ·रते युवा मन में ·ुछ ·रने ·ी लल· उठी। वे गांव से दिल्ली चले गए। दिल्ली से लखनऊ जा·र वहां ·ी अमीनाबाद गली में ·ुछ समय बिताया। रोजगार नहीं जम पाया तो मुंबई ·ी ओर रुख ·र लिया। वहां जा·र जयहिंद ·ालेज में शिक्षा प्राप्त ·ी। उस·े बाद ए· परिवहन ·ंपनी में सुपरवाईजर ·ी नौ·री ·ी व छोटे मोटे जॉब ·िए, ले·िन उन्हें याति मिली रेडियो सीलोन से। यह साऊथ एशिया ·ा सबसे पुराना रेडियो स्टेशन था,जहां से हिन्दी ·ार्य·्रम और प्रसारित होने वाली हिन्दी फिल्मों पर आधारित बिना·ा गीत माला ·ो लोग आज त· याद ·रते हैं।

उन·ी याति ने उन्हें फिल्म इंडस्ट्री में 1955 में बनी फिल्म रेलवे प्लेटफार्म ने उद्ïघोष· से फिल्म स्टार बना दिया। उन·े भाई सोमदत्त यादों ·े अतीत में झां·ते हुए ·हते है, जब रेलवे प्लेटफार्म फिल्म उत्तर प्रदेश ·े सहारनपुर ·े ए· सिनेमा हॉल में लगी और उन्हें मालूम हुआ ·ि उन·े भाई सुनील दत्त ने इस फिल्म में अभिनय ·िया है, तो यमुनानगर से 40 ·िलोमीटर साई·िल पर जा·र फिल्म देख·र आए थे। इस·े बाद तो सुनील दत्त फिल्म इंडस्ट्री में ऊंचाईयां चढते चले गए। इसी दौरान उन·ी जिंदगी ·ा ए· पल ऐसा आया ·ि 1957 में हिन्दी फिल्म मदर इंडिया ·ी शूटिंग ·े दौरान आग ·े सीन में ऐसी घटना घटी ·ि उन्हें उस वक्त ·ी मशहूर अदा·ारा नरगिस जीवन संगिनी ·े रूप में मिल गई। फिल्म ·ी शूटिंग ·े बाद 11 मार्च 1958 ·ो दोनों ने दामपत्य जीवन ·ी शुरूआत ·ी। इस·े बाद तो सुनील दत्त और भी बुलंदियों ·ो छूने लगे। नरगिस और सुनील दत्त ·ी तीन संतानें संजय दत्त, प्रिया दत्त और निरूपमा दत्त हैं। उन्होंने अपने भाई सोमदत्त ·ो भी अपने पास मुबई बुला लिया और फिल्मों में ·ाम दिया। सोमदत्त ने मन ·ा मीत, आनबान, गंगा,धरती ·ी गोद में,पंजाबी फिल्म नान· नाम जहाज,तेरे रंग न्यारे में मु य भूमि·ा निभाई। बाद में अपने भाई सोमदत्त ·ो उन्होंने माता ·ी देखरेख ·े लिए गांव भेज दिया। उन·ी माता गांव छोडने ·ो तैयार नहीं थी। आज भी उन·ी माता ·ी समाधि यमुना नदी पुल ·े पास यमुुना नदी ·े तट पर बनी हुई है। सुनील दत्त ·ी यूं तो सभी फिल्में ए· से ए· बढ·र रही ले·िन ·ुछ फिल्मों ·ी अमिट छाप उन लोगों पर आज भी मौजद है जिन्होंने ये फिल् ों उस वक्त दे ाी।यानी उस समय दिल्ली ·े सिनेमा हॉल में टि·ट था, पांच आने,दस आने,सवा रूपया और स्पेशल क्लास अढाई रूपया। वर्ष 1956 में बनी ए· ही रास्ता,1958 में साधना, 1959 में सुजाता,1960 में हम हिंदुस्तानी,1962 में मै चुप रहुंगी, 1963 में मुझे जीने दो और ये रास्ते हैं प्यार ·े, 1964 में यादें और 1965 में वक्त आज भी हिट फिल्में मानी जाती हैं। वर्ष 1966 में मेरा साया, 1967 में मशहूर अभिनेत्री नूतन ·े साथ बनी फिल्म मिलन ·े गीत आज भी गुनगुनाए जाते हैं। वर्ष 1976 में बनी नागिन जैसी अने· फिल्में हैं जिनमें सुनीलदत्त ने अपने अभिनय ·ी अमिट छाप छोडी है। सुनील दत्त ·े साथ अधि·तर मीना·ुमारी, नरगिस, वैज्यन्तीमाला,वहिदा रहमान,साधना,माला सिन्हां,आशा पारिख और सायरा बानो ने अभिनेत्रियों ·ी भूमि·ा निभाई। सुनील दत्त ·ो फिल्मों व सामाजि· ·ार्यों ·े लिए ·ई बार स मानित ·िया गया व अवार्ड दिए गए। उन्हें वर्ष 1963 में मुझे जीने दो फिल्म और 1965 में खानदान फिल्म में अभिनय ·े लिए बैस्ट एक्टर अवार्ड से नवाजा गया। वर्ष 1987 में मिलन फिल्म में बीएफजेए. बैस्ट एक्टर माना गया। 1968 में उन्हें पद्ïमश्री से स मानित ·िया गया। उन्हें अवार्डस ·ी श्रंखला में दादा साहिब फाल्·े अवार्ड से भी स मानित ·िया गया। जीवन यात्रा पूरी ·रते हुए सुनील दत्त ने अपने बेटे संजय दत्त ·े लिए मुन्ना भाई एमबीबीएस फिल्म बना·र ए· ऐसा तोहफा दिया है ·ि आज गली ·ूंचों में भी यह नाम ·ई अवसरों पर लिया जाता है।

सुनील दत्त में समाज सेवा ·ा जज्बा शुरू से ही था। छोटे होते हुए वे यमुनानगर ·े शरणार्थी शिवरों जा·र लोगों ·ी सेवा ·िया ·रते थे। फिल्म इंडस्ट्री ·ी च·ाचौंध वाली जिंदगी ·े दौरान भी वे समाज सेवा ·े ·ारण ही ·ामयाबी ·ी सीढियां चढते हुए 1984 में राजनीति में आए और नार्थ मुंबई से पांच बार चुनाव लड·र लो·सभा में पहुंचे। इतना ही नहीं वे देश ·े वर्तमान प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह मंत्रीमंडल में वर्ष 2004 से 2005 त· यूथ ऐफेयर्स एण्ड स्पोर्टस विभाग ·े ·ेबिनेट मंत्री रहे थे। यह भी ए· विडंबना है ·ि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ·ा परिवार भी देश विभाजन ·े बाद पहले यमुनानगर में ही आया था और उन·े ए· भाई अब भी यहां पर रहते हैं। सुनील दत्त ने आतं·वाद ·े खिलाफ अमृतसर त· पदयात्रा भी ·ी थी।




No comments:

Post a Comment