Friday, December 10, 2010

बाढ ·ा गम भूले तो मुआवजा राशि ने ज म ताजा ·र दिए?

यमुनानगर 10 दिसंबर- यमुना नदी ·े आस पास ·े गांवों में यहां ·े सें·डों ·िसान हर वर्ष बाढ ·ी त्रासदी झेलने ·ी ए· आदत सी बना बैठे हैं और इसे अपनी ·िस्मत मान·र आगे ·ी जिंदगी शुरू ·र देते हैं। ले·िन सर·ार द्वारा जब मुआवजा राशि ·ी घोषणा ·ी जाती हेै तो ए· उ मीद और बंधती है। सन्ï 2008 में आई बाढ ·ी मुआवजा राशि मिलने ·ी जैसे ही यहां ·े ·िसानों ·ो जब जान·री मिली तो और भी खुशी ·ा ठि·ाना नहीं रहा। ले·िन यह खुशी उस समय ·ाफूर हो गई जब उन्हें मुआवजे ·ी राशि ए· मजा· लगी।

·िसानों ·े अनुसार सर·ार ने 2008 में मुआवजे ·े लिए पांच हजार रूपए तय ·िए थे। जो ·िसान अपना दिन खराब ·र·े धनराशि ले·र लौट रहे थे। उनमें मंडी गांव ·े इरफान ·ो 28 रूपए 25 पैसे,मुरसलीम ·ो 28 रूपए,सतरूद्ïदीन ·ो 93 रूपए 75 पैसे,असलम ·ो 37 रूपए,महबूब हसन ·ो 412 रूपए,इ·राम ·ो 84 रूपए 50 पैसे,मुस्तफा 450 रूपए,जुल्फान 84 रूपए 25 पैसे,इस्लाम 337 रूपए 50 पैसे,अमजद खान 327 रूपए 50 पैसे,जमीला 262 रूपए 50 पैसे,सुदरलाल 75 रूपए,आलम हसन, तालब हसन व सलीम हसन 56 रूपए 25 पैसे, नाथीराम व भगवत प्रसाद 112 रूपए 50 पैसे मिले। इसी प्र·ार गांव ला·डमेप्रतापुर में नरेश ·ुमार 83 रूपए, जयपाल 84 रूपए,गुरमेज 37 रूपए। गांव नवाजपुर में चंपादेवी 122 रूपए,बालादेवी 123 रूपए,रवीश ·ुमार 123 रूपए, मेनपाल 180 रूपए,मु·ेश ·ुमार 181 रूपए व विनोद ·ुमार ·ो 180 रूपए मिले।
इन ·िसानों ·ा ·हना है ·ि हम यह नहीं समझ पाए ·ि सर·ार ने हमें यह मुआवजा राशि दी है या हमें याद ·रवाया है ·ि सन्ï 2008 में भी बाढ आई थी। ले·िन ए· बात पर ये ·िसान सर·ार ·ा इस बात पर आभार व्यक्त ·रते दिखाई दिए ·ि ए· हजार से ·म राशि वाले ·िसानों से रसीदी टि·ट पर अंगूठा दस्तखत ·रवा·र यह राशि प्रदान ·र दी। अगर यह र·म चै· से दी जाती तो इस·े लिए ए·ांउन्ट खुलवाना पडता और बैं· ·े चक्·र लगाने पडते। ·िसानों ·ा ·हना है ·ि सर·ार अगर हमें यह धनराशि नहीं भी देती तो अच्छा होता। हम अब त· यह नहीं समझ पाए ·ि सर·ार द्वारा घोषित पांच हजार रूपए ए·ड ·े हिसाब से हमें क्या मिलना चाहिए था और जो हमें मिला वह तो ऊंट ·े मुंह में जीरा भी नहीं।  उधर राजस्व अधि·ारियों ·ा ·हना है ·ि ए· ए·ड ·े जितने मालि· हैं उन सभी में धनराशि बराबर बराबर बांटी गई

No comments:

Post a Comment