Monday, July 15, 2013

यमुनानगर के शर्मा परिवार ने फिल्मों में जमाया सिक्का

यमुनानगर के शर्मा परिवार ने फिल्मों में जमाया सिक्का

Posted On July - 15 - 2013
सुरेंद्र मेहता/हमारे प्रतिनिधि
यमुनानगर में पत्रकारों से बातचीत करता फिल्मों में किरदार निभाने वाला परिवार। छाया : हप्र
यमुनानगर, 14 जुलाई। देश व विदेश में धूम मचाने वाली चर्चित फिल्म भाग मिल्खा भाग व बीए पास में यमुनानगर के कलाकारों ने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है। यही नहीं यहां रहने वाले एक ही परिवार के तीन सदस्य फिल्मों में काम कर यहां का नाम रोशन कर रहे हैं। भाग मिल्खा भाग में जहां यहां के बेटे व मां ने किरदार निभाया है वहीं बीए पास में मां महत्वपूर्ण भूमिका में है।
स्थानीय माडल कालोनी में रहने वाले राजिंद्र शर्मा, उनकी पत्नी गीता शर्मा व बेटा चिन्मय शर्मा आज किसी भी परिचय के मोहताज नहीं हैं। चिन्मय शर्मा को तो चिल्लर पार्टी फिल्म में अच्छा अभिनय करने पर सर्वश्रेष्ठ बाल कलाकार का पुरस्कार भी मिल चुका है। अब यह परिवार फिल्म भाग मिल्खा भाग व बीए पास को लेकर चर्चा में है।
पत्रकारों से बातचीत करते हुए गीता शर्मा व राजेंद्र शर्मा ने बताया कि भाग मिल्खा भाग फिल्म जिसे  कि राकेश ओमप्रकाश मेहरा जिन्होंने दिल्ली-6 व रंग दे बसंती जैसी बड़ी फिल्में दी हैं, द्वारा ही बनाई गई है। इस फिल्म में उनके बेटे चिन्मय बचपन केमिल्खा के दोस्त समप्रीत का किरदार निभा रहे हैं। इसी फिल्म में गीता शर्मा खुद मिल्खा की मां का किरदार निभा रही हैं। उन्होंने बताया कि हालांकि उनका किरदार इस फिल्म में चाहे थोड़ा है लेकिन है महत्वपूर्ण। इस फिल्म में दिखाया गया है कि चिन्मय किस प्रकार मिल्खा केसाथ अपना बचपन गुजारता है। उसी केसाथ ही स्कूल जाता है और हर प्रकार की मस्ती भी करता है। इसी केसाथ ही गीता शर्मा की एक अन्य फिल्म बी.ए. पास में भी उनका महत्वपूर्ण रोल है और वे फिल्म के हीरो की बुआ का मुख्य किरदार निभा रही हैं। उन्होंने बताया कि यह फिल्म भी दर्शकों को खूब पसंद आएगी। इसके अतिरिक्त चिन्मय एक टी.वी. चैनल पर आने वाले कार्यक्रम मास्टर सैफ जूनियर के प्रोमों में भी काम कर रहे हैं। जल्द ही चिन्मय की अगली फिल्म क्वीन जो कि कंगना राणावत के साथ है, जल्द ही दर्शकों को देखने को मिलेगी। इस फिल्म में चिन्मय कंगना के भाई का किरदार निभा रहा है।  राजेंद्र शर्मा उर्फ नानू की प्रतिभा भी पहले कई बड़े फिल्मी स्टारों के साथ दिख चुकी है। जल्द ही उनकी अगली फिल्म बजाते रहो रिलीज होने वाली है। नानू ने कहा कि इस फिल्म में उनका नेगेटिव किरदार है। इस फिल्म में वे अपने बहनोई के साथ मिलकर मिलावटी धंधा करते हुए दिखाई देंगे। इससे पहले भी दर्जनों फिल्मों में राजेंद्र काम कर चुके हैं और थियेटर की दुनिया में राजेंद्र शर्मा एक जानामाना नाम है और न जाने कितने अवार्डों से राजेंद्र शर्मा को सम्मानित किया जा चुका है।
जिले का बाल कलाकार चिन्मय प्रदेश का एकमात्र ऐसा बाल कलाकार है जिसे पिछले वर्ष उप राष्ट्रपति द्वारा एक समारोह में सम्मानित किया गया था। चिन्मय ने अपनी पहली फिल्म चिल्लर पार्टी जो कि सलमान खान द्वारा निर्मित थी, में पनौती की भूमिका निभाते हुए अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया था।  चिन्मय की माता गीता शर्मा इन दिनों लाइफ ओके टी.वी. पर दिखाए जाने वाले धारावाहिक कैसा है ये इश्क में भी मुख्य भूमिका निभा रही हैं।

Sunday, July 14, 2013

अस्‍पतालों में नहीं रहेगी दवा की कमी

कोख में ही बच्चे का सौदा!

कोख में ही बच्चे का सौदा!

Posted On July - 13 - 2013
सुरेंद्र मेहता/हमारे प्रतिनिधि
यमुनानगर में शनिवार को मीडिया से रूबरू होती महिला। -हप्र
यमुनानगर, 13 जुलाई। यमुनानगर के गांव बूडिय़ा में रोंगटे खड़े कर देने वाली घटना में खुद को ‘मजबूर’ बताने वाली मां ने अपने अजन्मे बच्चे का कोख में ही सौदा कर डाला। उसने 8 मास के अपने अजन्मे बच्चे को बेचने के लिए विभिन्न साधनों से प्रचार किया। मामला उपायुक्त के दरबार पहुंचा तो उन्होंने जांच के आदेश जारी कर दिए। उन्होंने कहा कि पुलिस अधीक्षक इस मामले की हर पहलू से जांच करेंगे।
यह मामला यमुनानगर के गांव बूडिय़ा का है। वहां की एक महिला अपने को ‘मज़बूर’ बताते हुए अपनी कोख का ‘सौदा’ कर रही है। उसने 8 मास के अजन्मे बच्चे की विभिन्न साधनों से प्रचार करके ‘नीलामी’ शुरू कर दी है। महिला का कहना है कि उसने अपने मां-बाप व भाइयों से कर्ज लिया था। वह बुरी तरह से कर्ज के तले दब चुकी है और किराए के मकान में रहती है। घरों में बर्तन साफ करने का काम कर रही यह महिला इस संबंध में तर्क दे रही है कि उसके पास तीन लड़के हैं, उनका पालन-पोषण वह नहीं कर पा रही है। अपनी अजन्मी चौथी संतान को बेचकर वह अपना व अपने तीन बच्चों का भविष्य सुखद करना चाहती है।
वह चाहती है कि उसे इतना रुपया मिल जाए कि वह कर्ज उतारने के बाद अपना मकान बनाकर अपने तीन लड़कों को ठीक तरीके से पाल सके। अखबारों में छपे विज्ञापन के माध्यम से उसके पास कई फोन कॉल भी आई हैं। उसका कुछ लोगों से ‘सौदा’ इसलिए टूटने लगा कि कीमत कम मिल रही है। उसे मालूम हो गया है कि बे-औलाद किसी भी कीमत पर औलाद पाना चाहते हैं। इस महिला का पंजाब के बठिंडा में एक व्यक्ति से 6 लाख में सौदा तय हो गया था, लेकिन बाद में बठिंडा निवासी इस व्यक्ति ने संदेह जताते हुए पुलिस में शिकायत कर दी।पुलिस में शिकायत होने के बाद महिला कैमरे के सामने भी आई है और उसने कहा है कि उसे सौदा होने के बाद आशा की एक किरण नजर आई थी। लेकिन मामला पुलिस प्रशासन में जाने से वह हताश है।
महिला का कहना है कि अभी तक उम्मीद है कि किसी न किसी के साथ उसका यह सौदा ज़रूर हो जाएगा। उसका कहना है कि वह कोई अपराध नहीं कर रही। अपनी कोख पर उसका अधिकार है और वह उसे बेच रही है।